स्वास्थ्य मंत्री के साथ वर्चुअल मीटिंग में शामिल हुए अगिआंव विधायक मनोज मंजिल

विशाल दीप सिंह/गड़हनी :- मीटिंग में शामिल होकर विधायक ने राखी अपनी बात और स्वास्थ्य मंत्री को बताया आरा सदर अस्पताल में क्या-क्या कमियां है और क्या-क्या सुधार की जा सकती है । जो HRCT टेस्ट तीन दिन पहले शुरू हुआ है,क्या यह फ्री हो रहा है या इसके लिए कोइ पैसा लिया जा रहा है,कल तक पैसा लिया गया था।कोविड मंरीज़ों के लिए बेहद जरूरी टेस्ट जैसे CRP, D-Dymer टेस्ट,ABG टेस्ट जिससे मानव शरीर में ऑक्सीजन और कार्बन डाइऑक्साइड लेवल का पता चलता है,Feritin टेस्ट जिससे शरीर कितना ऑक्सीजन कैरी कर रहा हैं पता चलता है जैसे जरूरी टेस्ट नहीं हो रहें है जिससे मंरीज़ों का उचित इलाज नहीं हो पा रहा है । ये सारे टेस्ट जल्द शुरु किये जायें ।इतने दिनों में ये टेस्ट क्यों शुरू नहीं कइये गए? इसके अभाव में उचित इलाज ना मिल पाने के कारण अनेको मंरीज़ों की जान जा चुकी है ।अस्पतालों में कितनी जीवन रक्षक दवाइयां उपलब्ध है इसका डिस्प्ले बोर्ड पर जिक्र होना चाहिए ।कोविड किट में केवल अज़ीथ्रोमाईसीन,विटामिन-सी और पेरासिटामोल दिया जा रहा,मल्टी विटामिन,जिंक,और लिवोसेसेट्रीजीन नहीं दिया जा रहा है । सदर अस्पताल इमरजेंसी में अभी तक ECG की व्यवस्था नहीं है,बार-बार झूठ बोला जाता है कि ECG है ।इमरजेंसी में फाइव पारा पल्स ऑक्सीमीटर उपलब्ध कराया जाए जिससे एक साथ बीपी,पल्स,ईसीजी और ऑक्सीजन मापा जा सके ।अस्पताल में ड्यूटी पर तैनात नर्सों को सैनिटाइजर भी नहीं दिया जाता । डॉक्टरों और चिकित्सा कर्मियों की सुविधा,सुरक्षा का ख्याल नहीं रखा जाता ।एंटीजन रैपिड किट टेस्ट से जो कोरोना की जांच हो रही है वो बिलकुल भी सही नहीं बता रहा हैं। दैनिक अखबार हिंदुस्तान में भी इसकी प्रामाणिकता को लेकर खबर छपी है । घठिया क्वालिटी का टेस्ट किट उपयोग हो रहा है ।
अस्पताल में शौचालय की स्थिति काफी दयनीय है ।RTPCR टेस्ट 7 दिन में आ रहा है,इसे तीन दिन में उपलब्ध कराया जाए मृत्यु प्रमाण पत्र तुरंत उपलब्ध कराया जाये ।दुबौली का अतिरिक्त स्वास्थ्य केंद्र जल्द चलु हो । सरकार द्वारा आरा में कितने प्राइवेट अस्पतालों को अपने नियंत्रण में लिया है,क्या ये सरकार के पूरी तरह नियंत्रण में है स्वास्थ्य मंत्री चुकी भोजपुर जिले के प्रभारी हैं,इसलिए स्वास्थ्य व्यवस्था को अपने नियंत्रण में लें,अस्पताल में एक बुथ और मॉनिटरिंग सेल बने जिससे लोगों को आसानी से जानकारी मिल सके ।जिन लोगों को होम आइसोलेट किया जा रहा है उनकी मेडीकल मॉनिटरिंग हो ।
सरकार द्वारा विधायक फंड की दो करोड़ की राशि को ले लिया गया है,शेष बची एक करोड की राशि को अगिआंव विधानसभा के स्वास्थ्य केंद्रों में कोरोना से बचाव के लिए चिकित्सीय उपकरणों जैसे-अगिआंव में ऑक्सीजन प्लांट लगाने,20ऑक्सीजन सिलिंडर हर स्वास्थ्य केंद्र को,हरेक स्वास्थ्य केंद्र को एक एम्बुलेंस,फ्लो-मीटर,ऑक्सीजन मास्क,ऑक्सी मीटर,आदि के खरीदने के लिए दे रहा हूं । यदि जरूरत पड़ी तो और राशि पब्लिक फण्ड के माध्यम से उपलब्ध कराउंगा ।
वेंडिलेटर 3 बेड से 10 बेड का किया जाए ।इस कोरोना महामारी में जिस युद्ध स्तर पर सरकार को काम करना चाहिए उस स्तर पर काम नहीं कर रही है । भाकपा-माले,आइसा-इनौस की टीम पिछले 37 दिनों से लगातार मंरीज़ों की सहायता कर रही है ।स्वास्थ्य स्वास्थ्य मंत्री ने सारी बातों को ध्यान पूर्वक सुनने के बाद कहा कि इस स्थिति में सुधार की जाएगी और मरीजों को अधिक से अधिक सुविधा प्रदान की जाएगी


[responsive-slider id=1811]

जवाब जरूर दे 

आप अपने सहर के वर्तमान बिधायक के कार्यों से कितना संतुष्ट है ?

View Results

Loading ... Loading ...


Related Articles

Close
Close

Website Design By Bootalpha.com +91 82529 92275