आरा रोटी बैंक जरूरतमंदो लोगों की मदद के लिये निरंतर क्रियाशील है

आरा:-

“मै अकेला ही चला था जनीबे मंजिल मगर लोग साथ आते गए और कारवां बनता चला गया “ मजरूह सुल्तानपुरी का ये मशहूर शेर आरा रोटी बैंक पर सटीक बैठता है। किसी एक व्यक्ति के मन में बच्चे,महिलाएं,वृद्ध और जरूरतमंदो को भरपेट पौष्टिक भोजन कराने का विचार आज एक सोच बन चुका है और शहर के कुछ बुद्धिजीवी वर्ग के लोग भी मदद के लिए सामने आ रहे हैं। करोना की पहली लहर में पिछले साल लगातार 45दिनों तक 110 जरूरतमंदो के बीच रोज खाने का वितरण किया गया। जमीरा कुष्ठ आश्रम, गिधआ मुशहर टोला, पिप्रहियां टोला,चंदवा टोला,रोजा, अनाईठ मुशहर टोला,बाज़ार समिति,ओवरब्रिज,स्टेशन परिसर आदि।कुछ निश्चित जगहों पर बारी बारी से भोजन बांटा गया था जिसमें जरूरतमंदो के बीच सूखा राशन भी भोजन के साथ दिया गया।साथ ही शहर में घूम घूम कर जरूरतमंदो की मदद भी की गई। 16 मार्च 2020 को पहली मुहिम हुई जिसमें लोगों के बीच साबुन,मास्क,सेनेटाइजर,गमछी आदि का वितरण किया गया साथ है करोना जागरूकता संबंधी जानकारी भी दी गई।करोना कर्फ्यू और लॉकडॉउन के बीच मुहिम अनवरत जारी रही। आज करोना कि दूसरी लहर से सभी जूझ रहे है और जारी लोकडाउन से जरूरतमंदो के बीच फिर से भोजन का संकट मंडराने लगा है।आरा रोटी बैंक ने निश्चित किया है 13 मई से हर रोज दैनिक भोजन वितरण मुहिम शुरू किया जाएगा जो अनिश्चितकालीन चलेगा जिसके अन्तर्गत लगभग 150 जरूरतमंदो के बीच भोजन का वितरण किया जाएगा। महादेवा स्थित आरा रोटी बैंक का कम्युनिटी किचेन है जिसके समन्वयक अखौरी दीपक बिहारी निष्ठा भाव से मुहिम की तैयारियों में जुटे है साथ मुहिम में आम जनों का सहयोग भी परस्पर मिलता है जिससे मुहिम अनवरत है।दीपक बिहारी के अनुसार इस बार करोना कि दूसरी लहर का सभी को डट कर सामना करना है और लोगो के बीच भोजन वितरण के साथ साथ करोना जागरूकता का संदेश भी दिया जाएगा। एक सोच जो मुहिम बन कर आरा शहर में पिछले 2.5वर्षो से जरूरतमंदो के लिए काम कर रही है संकल्प से सिद्धि की ओर अग्रसर एक परिवार जो किसी भी हालात में जरूरतमंदो के लिए खड़ा है चाहे उनके भोजन की बात हो या बच्चो के शिक्षा या खेलकूद से संबंध या किसी जरूरतमंद को स्वास्थ्य संबंधी कार्य हो लगभग हर मोड़ पर खड़े रहने वाली आरा शहर के इस टीम का नाम है आरा रोटी बैंक। जमीरा कुष्ठ आश्रम में सोलर लाइट लगाना हो या बच्चो के बीच पढ़ाई का सामान खेल का सामान देना हो या बाढ़ में राहत सामग्री बांटना हो या पिछले 2 ठंड में लगातार महीनों कम्बल वितरण हो या स्थानीय स्टेशन परिसर में भोजन शिविर लगा कर 1000+ लोगो को निशुल्क भोजन वितरण या पिछले 2.5वर्षो से बिना रुके लगातार हर रविवार को लगभग 150 जरूरतमंदो के बीच भोजन वितरण करना हो आरा रोटी बैंक सेवा भाव के साथ इस यात्रा को जीवंत या यूं कहे तो अनवरत रखा है।

 

आरा रोटी बैंक के 2दर्जन से भी अधिक सक्रिय सदस्य नवीन सिन्हा,दीपक बिहारी,रवि राज,अभिषेक अग्रवाल,पवन कुमार,प्रवीण सिन्हा,मुक्ति कांत,आशीष,राजीव रंजन,विकी सिंह,रंजन केशरी,गगनदीप गुप्ता,प्रभात,रंजीत सिंह,राजीव पोद्दार,राकेश केशरी, मोसारीब खान,अभिषेक झुमन,राजीव पोद्दार,विशाल,राहुल आदि इस मुहिम को सफल बनाने में सेवा भाव से लगे हुए है।


[responsive-slider id=1811]

जवाब जरूर दे 

आप अपने सहर के वर्तमान बिधायक के कार्यों से कितना संतुष्ट है ?

View Results

Loading ... Loading ...


Related Articles

Close
Close

Website Design By Bootalpha.com +91 82529 92275