कार्यपालक सहायकों के लंबित मांगों की पुर्ति हेतु मुख्यमंत्री को लिखा पत्र

 

रिपोर्ट – रितेश  हन्नी/सहरसा (बिहार) – जिले में चल रहे कार्यपालक सहायकों के हड़ताल को अब विभिन्न दलों व समाजसेवियों का भी समर्थन मिलना शुरू हो गया है और इसी कड़ी में शहर के गंगजला वार्ड नं० 16 निवासी एवं बिहार विकास मोर्चा के युवा प्रदेश अध्यक्ष आशीष रंजन सिंह ने कार्यपालक सहायकों की लंबित मांगों की पुर्ति हेतु बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को पत्र लिखा है। लिखे पत्र में उन्होंने कहा कि वह कार्यपालक सहायकों के हड़ताल पर रहने से प्रखंड अंचल अनुमंडल प्रमंडल जिला एवं राज्य स्तर के विभिन्न कार्यालयों का कार्य पुर्णरूप से बाधित हो रहा है।

जिस कारण आमजन को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है, जिससे सरकारी योजना भी बाधित हो रहा है। श्री सिंह ने लिखा है कि हड़ताल पर गए सभी कर्मी विगत दस वर्षों से सरकार की सेवा निष्ठा पूर्वक कर रहे हैं और इनके पूरे परिवार का भरणपोषण इसी के बदौलत चलता है।

चुनाव के समय 19 लाख लोगों को रोजगार देने की बात कहने वाली सरकार सत्ता में आते ही 45 हजार कर्मी को रोजगार से निकालने की बात कही जा रही है जो कहीं से भी न्यायोचित नहीं है, उन्होंने हड़ताल पर गए कार्यपालक सहायकों के माँग पर पुनर्विचार करने की बात कही है। निश्चित रूप से जिस तरह से कार्यपालक सहायकों का हड़ताल लंबा खींचा रहा है और शासन प्रशासन व सरकार द्वारा ऐसे मामलों में गंभीरता नही दिखाना चिंता की बात है। तो स्वाभाविक है जब शासन ही बहरी हो जाय तो उसे जगाने के लिये किसी को सामने आना ही पड़ेगा।अब देखना लाजिमी होगा कि इनलोगों के पहल का क्या अंजाम होता है। वैसे इनलोगों के हड़ताल ने प्रशासनिक कामकाज को बुरी तरह प्रभावित कर रखा है जिसका खामियाजा आखिर निरीह जनता को ही भुगताना पड़ रहा है।


[responsive-slider id=1811]

जवाब जरूर दे 

आप अपने सहर के वर्तमान बिधायक के कार्यों से कितना संतुष्ट है ?

View Results

Loading ... Loading ...


Related Articles

Close
Close

Website Design By Bootalpha.com +91 82529 92275